हिंद महासागर में फिर से उत्पन्न हो सकती है अल नीनो परिघटना?

हम सभी अल नीनो भौगोलिक परिघटना से सुपरिचित हैं। राष्ट्रीय महासागरीय एवं वायुमंडलीय प्रशासन, यूएस (एनओएए) के अनुसार ‘अल नीनो मध्य एवं पूर्वी उष्णकटिबंधीय प्रशांत महासागर में महसागरीय सतह तापमान के उष्ण होने से जुड़ी प्राकृतिक तौर पर घटित होने वाली जलवायु प्रणाली है।’ यह प्रणाली प्रत्येक दो से सात वर्षों पर उत्पन्न होती है […]

Continue Reading

आईएमडी पूर्वानुमान से पहले मानसून आगमन

भारत में दक्षिण-पश्चिम मानसून आगमन का समय 1 जून है और यह सर्वप्रथम केरल में आता है। मानसून आगमन को कई कारक प्रभावित करते हैं जैसे कि इंडियन ओशन डायपोल, ईएनएसओ (ENSO), पछुआ हवा इत्यादि। इंडियन ओशन डायपोल पश्चिमी व पूर्वी हिंद महासागर में तापांतर है वहीं प्रशांत महासागर में एल नीनो व ला नीनो […]

Continue Reading

Plague amid Pandemic: Locusts have Arrived

The ongoing locust invasion prompted the Indian government to reach out to Pakistan for a coordinated locust control response along the border through the institutionalised mechanism of Locust Warning Organisation and offered to supply pesticide Malathion to contain its spread. Both neighbours have an institutionalised arrangement under which locusts related information is exchanged by respective […]

Continue Reading

Vaidya R Kotecha | An integrated system of medicine to address India’s health care concerns

G’nY. Do you believe that integrated medicine systems have the potential to deal with health care problems in India? Traditional systems of medicine, especially ayurveda, yoga and naturopathy, unani, siddha, sowa rigpa and homoeopathy (AYUSH) have a huge potential in addressing the health care needs of the society. Traditional medicines, in well codified systems can […]

Continue Reading

Anil Khurana | Broadening the role of homeopathy in India’s health care

G’nY. In the developed part of the world, homeopathy is not part of the mainstream health plan. In India, however it is. Do you think that the efficacy of homeopathic treatments is undermined in the health care trajectories of the developed nations? It is not only homoeopathy treatment, all complementary and alternative treatment options are […]

Continue Reading

The Last Sigh of a Marsh | Jammu’s Gharana: A dying wetland

Gharana, a dying wetland, is located merely 500 m from the international border between India and Pakistan, the 200 acres of the Wetland situated in Jammu province (boundaries yet to be demarcated) harbours around 50 species of wintering waterbirds. Gharana is partially covered with various water plants — water hyacinth Eichhornia crassipes, Hydrilla spp. and […]

Continue Reading

Top 10 Climate Change Indicators : Reliable Yardsticks

Climate Change indicators are observations that can be used to track the current state of climate and its trends. Climate is defined as the average weather conditions prevailing at a place or a region over a long period. At a broader scale climate systems include land, atmosphere, ocean and the cryosphere. The World Meteorological Organisation […]

Continue Reading

हिमालय में बर्फ पिघलने से अरब सागर में जहरीला ‘नोक्टिलुका सिंटिलैंस’ शैवाल की बहार

अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी ‘नासा’ के उपग्रह से लिए गए तस्वीरों में अरब सागर के तटों पर ‘नोक्टिलुका सिंटिलैंस’, जिसे ‘सी-स्पार्कल’ भी कहा जाता है, की बहार देखी गई है। इन्हीं चित्रों के आधार पर एक अमेरिकी शोध प्रकाशित हुआ है जिसमें ‘नोक्टिलुका सिंटिलैंस बहार’ (Noctiluca scintillans blooms) को जलवायु परिवर्तन की वजह से हिमालय में […]

Continue Reading

अर्थव्यवस्था को बचाने के लिए क्या ‘क्लाइमेट एक्शन’ की बलि दी जाएगी?

पूरी दुनिया आज अभूतपूर्व दयनीय स्थिति का सामना कर रहा है। कोरोनवायरस संक्रमण पर काबू पाने के लिए लोगों को घर में ही रहने के आदेश से अधिकांश आर्थिक गतिविधियां थम सी गईं हैं। इसका परिणाम यह हुआ है कि करोड़ों लोगों पर बेरोजगारी का खतरा मंडराने लगा है, इनकी आय कम हो गई है […]

Continue Reading