भारत में कृषि भूमि के उपयोग मे बदलाव

कृषि के लिए भूमि की प्रासंगिकता इस प्रकार समझी जा सकती है-पहला, कृषि एक गहन जमीनी क्रियाकलाप है जिसका अर्थ है कि उत्पादन के सापेक्ष कृषि के लिए गैर-कृषि क्रियाकलाप की तुलना में अधिक भूमि की आवश्यकता होती है। दूसरा, कृषि में भूमि की गुणवत्ता का प्रति इकाई क्षेत्रफल की पैदावार पर बहुत कम प्रभाव […]

Continue Reading