जैव विविधता में महत्वपूर्ण समुद्री पर्यावरण व संसाधन

समुद्री पर्यावरण जिसमें महासागर और सभी सागर तथा समीप के तटवर्ती क्षेत्र शामिल हैं- वैश्विक जीवन समर्थन प्रणाली का एक अनिवार्य संघटक और एक सकारात्मक परिसम्पत्ति है जो संपोषित विकास का अवसर प्रदान करता है। समुद्री कानून संबंधी संयुक्त राष्ट्र अभिसमय (यूएनसीएलओएस)  में परिलक्षित अंतर्राष्ट्रीय कानून राज्यों के अधिकार और उनकी बाध्यताएं निर्धारित करते हैं […]

Continue Reading

जैव विविधता के लिए जरूरी है जैव संस्कृतिवाद

एक प्राचीन यूनानी पौराणिक कथा हमारे लिए एक प्रभावशाली नीति की कथा सिद्ध हो सकती है। अनाज, उपजाऊ शक्ति और ऋतुओं की सामंजस्यता की देवी डेमीतर घमण्डी राजा इरीसिक्थॉन के सामने एक नश्वर पुजारिन के रूप में प्रकट हुई और उसे सुझाव दिया कि वह उस पवित्र बाग के पेड़ों को काटने से बचे जिसे […]

Continue Reading

जैव विविधता को संरक्षित करें और पृथ्वी को बचाएं

जैव विविधता से आशय जीव जंतुओं, वनस्पतियों, सूक्ष्म जैविकों, पर्यावरण और हम सभी मानवों से है। इसका संबंध पृथ्वी के जैविक और अजैविक दोनों संघटकों से है। जब तक इन सभी संघटकों का सह अस्तित्व बना रहेगाए इनके बीच सामंजस्य और संतुलन कायम रहेगा जिससे अन्ततः पृथ्वी रहने योग्य बनी रहेगी। जैव विविधता का महत्व […]

Continue Reading