दुनिया को मिलेगा आठवां महाद्वीप , एक आशा

By: -भूगोल औऱ आप टीम
भूगोल और आप भूगोल और आप फ्री आर्टिकल

समस्त विश्व आज तक दुनिया में सात महाद्वीपों के अस्तित्व के बारे में जानता है औऱ उनके बारे में पढ़ता आया है । परंतु संभव है कि अब , हमारी वर्तमान पीढ़ी औऱ भावी पीढ़ी को आठवें महाद्वीप के बारे में भी पढ़ने व जानने का मौका मिले ।

भू-वैज्ञानिकों की नई खोज़ के रूप में एक बड़ा भूक्षेत्र सामने आया है , जिसे ज़ीलैंडिया का नाम दिया गया है ।  अपने विशाल भूभाग के कारण दुनिया का आठवां महाद्वीप बनने की योग्यता रखने वाला ज़ीलैंडिया दक्षिण-पश्चिम प्रशांत महासागर में जल के नीचे लगभग  पूर्णत: डूबा हुआ है । जल की सतह के नीचे इसका 94 प्रतिशत भाग विलुप्त है औऱ आंशिक रूप से कुछ हिस्सा छोटे -बड़े कुछ द्वीपो के रूप  में सामने आता है । इन्ही में शामिल हैं न्यू कैलेडोनिया , न्यूजीलैंड का उत्तरी व दक्षिणी द्वीपीय भूभाग और स्टुअर्ट द्वीप , चाथम , कैम्पबैल , ऑकलैंड , बाऊन्टी , एंन्टीपोड आदि छोटे द्वीप ।

एक अलग , आठवां महाद्वीप कहलाने के लिए जीलैंडिया  के पास आवश्यक योग्यतायें है, ऐसा भू-वैज्ञानिको का मानना है । उनके अनुसार एक विशिष्ट भूगर्भीय संरचना , एक विशाल निश्चित क्षेत्रफल , निकटवर्ती क्षेत्रों से इस भूक्षेत्र का ऊंचा होना , समुद्र तल से मोटी भूपर्पटी इसे आठवां महाद्वीप मानने के लिए पर्याप्त आधार हैं । माना जा रहा है कि ज़ीलैंडिया का अनुमानित क्षेत्रफल ५० लाख वर्ग किलोमीटर है । अर्थात , यह ऑस्ट्रेलिया महाद्वीप के कुल क्षेत्रफल का लगभग दो तिहाई है ।

उल्लेखनीय है कि ज़ीलैंडिया को महाद्वीप की सूची में लाने के लिये भू-वैज्ञानिक विगत्  दो दशकों से आंकड़े जुटाने का प्रयास कर रहे हैं  । शोधकर्ता मानते हैं कि इस विशाल भूक्षेत्र को आठवां  महाद्वीप के रूप में मान्यता मिल जाने से महाद्वीपीय पर्पटी की संरचना को समझने में सहायता मिलेगी ।

चूंकि यह माना जा रहा है कि वर्तमान का न्यूजीलैंड इसी बड़े भूक्षेत्र का एक छोटा सा अंश मात्र है , इसलिये जीलैंडिया की भौगोलिक संरचना , भूपटल की प्रकृति आदि भी न्यूजीलैंड के समान ही होनी चाहिये। सख्त चट्टानों  से निर्मित ओटेगो पठार की भू-प्रकृति इस संभावित आठवां महाद्वीप के  लिये शायद सबसे उपयुक्त उदाहरण होगी । वानस्पतिक विशेषताओं में भी साम्य दिखने की संभावना है ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *