हिम का ढलान की ओर तीव्र प्रवाह है हिमधाव

<p>हिमनद क्षेत्र में बर्फ की नदियां होती हैं, जो निरंतर गतिमान रहती हैं तथा जिनका निर्माण सैकड़ों या हजारों वर्षों के दौरान हिम के संहनन और पुनः रवाकरण द्वारा होता है। प्रवाहपूर्ण संचलन चाहे वह कुछेक सेंटीमीटर या दस मीटर प्रतिदिन क्यों न हो, एक हिमनद को मृत बर्फ के ढेर से अलग करता है।</p>

By: Staff Reporter

Read and explore our
English version of the journo-mag -

Geography and You

Read more

पुस्तकें तथा बहुत कुछ

आलेख

अर्थव्यवस्था को बचाने के लिए क्या ‘क्लाइमेट एक्शन’ की बलि दी जाएगी?

पूरी दुनिया आज अभूतपूर्व दयनीय स्थिति का सामना कर रहा है। कोरोनवायरस संक्रमण पर काबू पाने के लिए लोगों को घर में ही रहने के आदेश से अधिकांश आर्थिक गतिविधियां थम सी गईं हैं। इसका परिणाम यह हुआ है कि करोड़ों लोगों पर बेरोजगारी का खतरा मंडराने लगा है...

BOOKS

Samajik Chintan

Eminent social worker Avinash Rai Khanna is a remarkable thinker. A former Member of Parliament and an active politician, he has been working intensely on social issues and raised them in Parliament from time to time. These social issues are in no way connected to politics. These in fact present deep thinking and an earnest relationship with ground realities. Each of the nine chapters of this book showcases an outlook on pertinent social issues. From the ever-changing evils of society and how together we can solve day-to-day problems to what the responsibility of society towards orphans should be and how to prevent their criminalization have been discussed threadbare. Khanna has selected topics unrelated to politics and governments, addressing the smallest unit of a nation - the family. He attributes problems to the departure from India's roots and highlights instilling the nation's ageold cultural ethos among children. Khanna hails from Punjab where, in the recent decades drug addiction among the young population has emerged as a significant problem. In his article 'How to get rid of drug addiction', Khanna presents a solution to this very problem. The author also considers military training in tandem with formal education an important input for nation-building. Overall, this succinct bouquet of thinking - Samajik Chintan, is an inspiring treatise for all..

Jaiv Vividhata Sanrakshan

जैव विविधता हमारे प्राकृतिक पर्यावरण का अनिवार्य हिस्सा है। पर्यावरण संतुलन व सतत विकास के लिए यह विविधता बनाए रखना जरूरी है। यह तभी संभव है जब इनका संरक्षण करें। यह पुस्तक जैव विविधता एवं उसके संरक्षण के सभी पहलुओं को स्पर्श करती है। पुस्तक में इस पुस्तक में संरक्षण संबंधी चुनौतियों का भी यथास्थान वर्णन है। पर्यावरण अध्ययन में अभिरूचि रखने वाले शिक्षकों, शोधार्थियों एवं छात्रों के लिए यह पुस्तक अति उपयोगी है।

SULAGNA’S PICK

Lorem ipsum dolor amet